असल कुंभ मेले में शूट हुआ था फिल्म का क्लाइमैक्स सीन, ऋषिता भट्ट ने बताईं इरफान खान और फिल्म से जुड़ी खास बातें

0
118


ZATV NEWS

May 16, 2020, 06:42 PM IST

मुंबई (अंकिता तिवारी). साल 2003 में रिलीज हुई तिग्मांशु धूलिया की फिल्म ‘हासिल’ के आज 17 साल पूरे हो चुके हैं। इस फिल्म में इरफान खान, जिम्मी शेरगिल, ऋषिता भट्ट और आशूतोष राणा ने अहम किरदार निभाए थे। हाल ही में फिल्म की लीड एक्ट्रेस ऋषिता ने भास्कर से बातचीत में इरफान खान के साथ काम करने और फिल्म से जुड़ी कुछ खास बातें शेयर की हैं। 
ऋषिता भट्ट ने बताया, ‘हासिल’ मेरे लिए एक बेहद ही स्पेशल फिल्म है क्योंकि इस फिल्म ने मुझे एक्ट्रेस की तरह स्थापित किया। यह फिल्म एक ऐसे समय में बनी थी जहां छोटे शहरों की कहानी कोई नहीं दिखाता था। आजकल बहुत सारी फिल्में छोटे शहरों की कहानी बयां करती हैं। कहीं ना कहीं मुझे लगता है कि वे ‘हासिल’ के नक्शेकदम पर हैं। उस दौरान कमर्शियल फिल्में ज्यादा बना करती थीं लेकिन तिगमांशु धुलिया ने एक हटकर फिल्म बनाई थी जिसने फिल्म इंडस्ट्री में एक बदलाव लाया। इस फिल्म के डायलॉग भी बहुत फैमस हुए थे, आज भी कई लोग इन्हें याद रखते हैं।
स्क्रिप्ट पढ़ते ही आ गई थी पसंद

मुझे याद है कि तब मैं बहुत यंग थी और कई सारी फिल्म्स की शूटिंग कर रही थी। जब तिगमांशु जी ने मुझे हासिल की स्क्रिप्ट भेजी थी तो वो बहुत ही अलग, गंभीर और इंटेंस थी। मुझे तो स्क्रिप्ट पहली बार में ही पसंद आई थी पर फिर मैंने मम्मी को भी स्क्रिप्ट पढ़ने को कहा।जब उन्होंने स्क्रिप्ट को पढ़ा तो उन्हें मेरा रोल बहुत चैलेंजिंग लगा। उन्होंने मुझे सलाह दी कि मुझे यह फिल्म जरूर करनी चाहिए। हासिल मेरे लिए बहुत ही सफल साबित हुई इसके बाद मुझे कई ऑफर आए। मैं फीमेल लीड के तौर पर इस फिल्म में काम करने के लिए खुद को खुशकिस्मत मानती हूं।
जब कुंभ के मेले में किया था इस फिल्म का क्लाइमैक्स शूट
शूट के लिए 10 दिन हम एक असली कुंभ मेले में गए थे। यह कुंभ मेला 100 साल में एक बार आता था और जब हम वहां गए तब हमें शूटिंग करने में बहुत कठिनाई हुई क्योंकि असल लोकेशन पर शूट करना आसान नहीं था। हमारे पास मेले में शूटिंग करने की परमिशन थी लेकिन भीड़ को कंट्रोल कर पाना हमारे लिए असंभव था। मैंने एक टेंट में ही 10 दिन गुजारे थे। एक सीन के दौरान हमें भागना था मगर वहां मौजूद संतो को लगता था कि कोई सच में मुझे भगा कर ले जा रहा है और वे बीच में ही चिल्लाने लगते थे कि लड़की को भगा रहा है। ये शेड्यूल काफी मुश्किल था।
इरफान खान के साथ काम करना था स्पेशल

मुझे याद है कि इस फिल्म में बहुत सारे इंटेंस सीन और डायलॉग थे। इरफान खान इन डायलॉग को बेहद ही आसानी से बोल जाते थे। डायलॉग डिलीवरी का एक यूनिक तरीका था। वे एक बहुत ही नेचुरल एक्टर थे। मेरे दिल में हमेशा उनके लिए बहुत सारा प्यार और इज्जत रहेगी। उनके साथ शूट किए गए सीन यादगार है।



Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें