बड़वानी : सब्जियां बेभाव ऊपर से 10 प्रतिशत तक काट लेते हैं आढ़त

0
8


Publish Date: | Mon, 23 Nov 2020 09:24 PM (IST)

बड़वानी (जेड ए टीवी प्रतिनिधि)। एक ओर किसान को सब्जियों के कम भाव देकर और उपभोक्ता से अधिक भाव लेकर बिचौलिए लाभ कमा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर जिले की तीनों थोक सब्जी मंडियों में सब्जी नीलामी के दौरान 8 से 10 प्रतिशत तक आढ़त काटी जा रही है। इससे किसान का दोहरा नुकसान हो रहा है। उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष किसानों द्वारा आढ़त लिए जाने की शिकायत किए जाने पर तत्कालीन एसडीएम ने दलालों-बिचौलियों के खिलाफ कार्रवाई की थी, लेकिन एक बार फिर यह प्रतिबंधित प्रथा शुरू हो गई।

थोक बाजार में किसान की सब्जियां बेभाव बिकने को लेकर जेड ए टीवी प्रमुखता से समाचारों का प्रकाशन कर रहा है। किसानों को उनकी उपज का उचित दाम मिले, इसके लिए प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। सबसे पहले जेड ए टीवी ने सबसे पहले बताया कि किसान से थोक में महज डेढ़ रुपये प्रतिकिलो खरीदी गई गिलकी खेरची में 40 से 50 रुपये प्रतिकिलो तक बिक रही है। इसमें किसान और उपभोक्ताओं का तो नुकसान है और बिचौलिए चांदी काट रहे हैं।

बदला आढ़त लेने का तरीका

जिला मुख्यालय सहित सेंधवा व राजपुर में सब्जी की थोक मंडी लगती है। जानकारी अनुसार वर्तमान में तीनों ही स्थान पर आठ से 10 प्रतिशत तक आढ़त काटी जा रही है। वहीं हम्माली व तुलाई का खर्च भी किसान के हिस्से में ही आता है। हालांकि पिछले वर्ष हुई सख्ती के बाद इसका तरीका कुछ बदला गया है। पहले जो राशि आढ़त के नाम पर लिखी जाती थी, उसे अब किसान को नकद देना बताया जाता है। एक ओर किसान को उपज की लागत भी नहीं मिल पा रही और दूसरी ओर गैरकानूनी तरीके से राशि काटी जाने से किसान हताश हैं।

नए कानून भी नहीं दिला पा रहे मुक्ति

भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष मंशाराम पंचोले ने बताया कि देश में लागू हो रहे नए कृषि कानूनों को किसान हित में बताया जा रहा है लेकिन यह कानून भी किसान को आर्थिक शोषण से मुक्ति नहीं दिला पा रहे हैं। जिले की तीनों मंडियों में आढ़त, हम्माली व तुलाई के नाम पर किसान से राशि काटी जा रही है। इस कुप्रथा पर कड़ाई से कार्रवाई की जानी चाहिए।

यदि किसानों से किसी भी प्रकार से गलत रूप से राशि काटी जा रही है तो यह गलत है। संबंधित एसडीएम को इसके लिए निर्देशित करेंगे। उक्त स्थिति पाए जाने पर नियमानुसार कड़ी कार्रवाई करेंगे।

-शिवराजसिंह वर्मा, कलेक्टर बड़वानी

Posted By: ZATV NEWS Network

 



Source link

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें